Wednesday, April 1, 2009

वक्त क्या हुआ है




दराज के अंधेरे कोने में जमी गर्द पर फूंक मारते ही अलसाये शब्दों ने जम्हाई लेते हुए पूछा वक्त क्या हुआ है ? यही कोई एक दोस्त को खोने जितना हुआ होगा, उदास मन बोला किंतु पुस्तक के पीछे से कोई पुराना चित्र भी दिखाई दे गया जो वक्त के कुछ और बीत जाने का आभास दे रहा था, यही पर कुछ पल असमय मर गए थे उनकी अस्थियाँ भी अब सीने से लगाने लायक नही रही तो झाडू से उनको बुहारा और एक अँधेरी सदी के मुहाने पर रखे कूड़ादान के भीतर उलट दिया। वे निशब्द अपनी नवीन यात्रा पर चल दिए हैं तो तस्वीर पर हाथ घुमाया जैसे कोई बनिया अपने उधार के खातों से किसी का प्यार वसूलना चाहता हो।

इस पहाड़ से बड़े हौसले वाले इन्सान ने जंगल में कंदराओं को, पानी में मूंगे की बस्तियों को, आसमान में फैले धूल के गुब्बार को, सूखे जंगल के अकेले पेड़ को, बुझी हुई नदी की पपडी से झांकते किसी जीव के खोल को यात्रा कर के खोजा और वहाँ शब्दों का कूड़ा करकट छोड़ आया, मेरे समय में भी घोर अकाल है एक ऐसी जगह का जहाँ शब्द न हों, जहाँ हो नितांत सूनापन, जहाँ कोई ये न पूछे की वक्त क्या हुआ है ?


असामयिक मृत्यु

याद की शक्ल बुनने की ताकत जिन शब्दों में नहीं

वे ही सदियों से पूछते हैं ऐ राजो वक्त क्या हुआ है.


25 comments:

  1. पहली ही बार आपके ब्लाॅग पर आया। जिन चुनिंदा ब्लाॅग लेखको को मैं पसन्द कर रहा हूं, वो सब आपकी ही तरह है। आपके लेखन की गम्भीरता, सोन्दर्य और रोचकता के साथ एक श्रेष्ठता भी है। जो कही बहुत पढ़ने और समझने के बाद ही झलक पाती हैं। आपका प्रोफाइल कन्फूय्ज कर रहा है। सही प्रकार से दे तो अच्छा लगेगा। और ब्लाॅग के प्रोमोशन पर ध्यान दे। इतने अच्छे और शानदार लेखन के लिये एक बार फिर से मुबारकबाद।
    इरशाद

    ReplyDelete
  2. 'माँ' बिमार है केन्सर से जुज रही है। कुछ दिनों कि छुट्टी लेकर उसके पास गइ। कमज़ोर है 35 क्ग वज़न रह गया है किमोथेरेपी -रेडीएशन लेकर। शायद उसे पता है वो कुछ दिनों की महमान है। पर हमें नहिं बताती अपने दिल का हाल।
    एक रात में उसके साथ सो गइ। सारी रात वो जागति रही। में आधी जगती- आधी सोती रही। मुज़े करवट बदलती देख उसने मुज़से पूछा "बेटा "वक्त क्या हुआ है"मानो कोइ एंतेज़ार में थी वो, या फ़िर किसी का डर था!!!!!!!!

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब लिखा है ! दर्द को जैसे शब्दों के पंख लग गए हैं . कुछ भी हो जाए कुछ सवाल ज़िन्दगी भर हमारा पीछा करते हैं यादों की तरह .

    ReplyDelete
  4. जी शायद इसीलिए कभी मैंने दो लाइन लिखी थी -
    दर्द आँखों में सिमट आया है ,
    जाने कौन मुझे याद आया है .

    ReplyDelete
  5. आपके लेखन में गहराई है .....दिल कि हलचल को वक़्त क्या हुआ का रूप दिया और रजिया जी ने भी कमाल कर दिया

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. संजीदा लेखन-दर्द को बखूबी उकेरा है.

    ReplyDelete
  7. aap ke blog par pahali baar aana hua....! abhi ek ek kar saari post padhungi. pahale is post ke liye shabda dhoondh lu.n

    aap ne jo likha, raziya ji ne jo kaha....! kai zakhma taza ho gaye.fir se pooNchha khud se Vaqta kya ho gaya hai aur aah nikali itana vaqta.....???? kaise guzar pai tum jabki lagta tha ki pal nahi guzar payeNge

    ReplyDelete
  8. aisa laga jaise kuch khayalo ko aazadi mili ho kuch shabd jadu se ubhare ho,bahut hi khubsurat lekh aur kalam bhi

    ReplyDelete
  9. वित्गेंस्ताइन ने भाषाओं के छद्म को पहले ही बता दिया था, आज उसी दर्शन पर एक शानदार पोस्ट इस जगह मिली. शब्दों की फटेहाल दुनिया कितनी लाचार हो सकती है ये आपने खूबसूरती से कुछ शब्दों के ज़रिये ही बताया. दानिश्वर लोग पहले ही लफ्फाजी नाम का शब्द दे गए है ताकि आने वाली पीढीयाँ लफ्फाजी से बचें.पर लगता है ये ज़माना ज्ञान के अधिनायकत्व का है, लोगअपने नहीं तो दूसरों के, खुद कह कर नहीं तो कोट करके एक नयी तरह का प्रभुत्व खडा करना चाहते है.
    बेहद सुंदर.

    ReplyDelete
  10. अरसे बाद दराज खोला
    कुछ धूल खाती चीजें मिली
    टटोला तो कुछ मुड़े कागज भी मिले
    जिन पर पहले कुछ लिखा
    फिर लकीरें फेरी थीं
    आंखों में वो अक्षर तैर आये
    जिन पर लकीरें फेरी गई थी
    वो अक्षर
    खास अक्षर थे
    आग को चूमना चाहते थे
    जहर को पीना चाहते थे

    ReplyDelete
  11. आपका स्वागत है -
    www.pradeepbali.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. आँखों में पड़ी रेत..
    और तुम्हारी याद में अब कोई फ़र्क़ नहीं रहा ....

    क्या नहीं कह दिया आपने ....
    आपकी रचनाएं आपके रचना-संसार की
    गरिमा को प्रमाणित करने में सक्षम हैं ....
    आपके ख्यालात आपकी शख्सियत की बलंदी की तर्जुमानी करते हैं ......
    बधाई . . . . .
    और......

    जिंदगी की अनबूझ पहेलियाँ
    हालात के अन-सुलझे-से सवालात
    ख्वाहिशों का बिखरा सा संसार
    बे-तरतीब से दिन-रात के लम्हात
    जाने क्यूं ...
    आते-जाते ...
    मुझे आजमाते ....
    मुझी से पूछ बैठते हैं ....
    वक़्त क्या हुआ है . . . . .

    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  13. शब्दों से उमड़ते ये भाव सारे भाव दिल को छूते से...अपने से लगते...

    ReplyDelete
  14. itni kamaal ki lekhani chalti hai aapki ....... main to hatprabh rah gaya tha ke main kya padh raha hun dukh ko kitni sanjidagi se aapne ukera hai... kamaal ki lekhani,,,


    arsh

    ReplyDelete
  15. उम्र गुजरी घडियां गिनते हुए
    न देखा साथ कितने हुए
    जो चलने लगे वो मेरे सिरहाने से
    मैंने पूछा "वक़्त क्या हुआ है".

    यूँ तो मैं दर्द की सौदाई ठीक नहीं समझता. इतना जानता हूँ कि जो दर्द खुदा दे वो दर्द और जो दर्द खुद लें वह खुदा.

    ReplyDelete
  16. अरे जा. मैं तो आपकी आह में वाह कहना भूल ही गया. पहली बार आपका ब्लॉग देखा. सब कुछ सुन्दर.

    बढ़ाई और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  17. वक्त क्या हुआ है...?
    आईने में दिखा दिया हो जैसे !!

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन भावाभिव्यक्ति के लिये साधुवाद स्वीकारें....

    ReplyDelete
  19. vo lamhe jinhen humne dil bhar ke jiya.vakt gujar jane ke baad ya kisi ke chale jane ke baad jab yaad aate hain to aatma paseej uthti hai,aur hum tan se apne aap ko vetan hota hua masoos karte hain. aise mein hum khud ko toota hua ,bikharta hua, lut ta hua mahsoos karte hai.shayad kisi ke prati hamaara pyar hota hai.is pyar mein gujare vakt ka haseen jeevan chupa hota hai.jisko humne kabhi jiya tha.chahat ka dard bahut tadpata hai.sundar lekh ke liye badhaai.fir milte hain

    ReplyDelete
  20. "दर्द के लफ्ज़ अब वक़्त के गुजरते साए से ब्यान होते हैं ..."
    कभी अचानक से कुछ ऐसा लिखा हुआ मिल जाता मिला जो लगता है की खुद ही बहुत सी बाते दिल की कहीं उगलवा ने ले ..आपके लिखे शब्दों ने वही काम किया है ..बहुत कुछ लिखने को कहने को मन उमड़ पड़ा है . आपका लिखा अच्छा लगता लिखते ..

    ReplyDelete
  21. Rajkumari ji aapka blog padha bahut achchha laga, aapki rachanovo me man ke gahare bavon ko sabdon me dhalane ki adbhut sakti hai...
    Regards

    ReplyDelete
  22. sach waqt ka dard aapne bahut hi khamoshi se ukera hai............waqt kya hua hai........ .bas yahi pata nhi chalta
    bahut gahre bhav.bahut hi sundar abhivyakti.

    ReplyDelete
  23. I found this site using [url=http://google.com]google.com[/url] And i want to thank you for your work. You have done really very good site. Great work, great site! Thank you!

    Sorry for offtopic

    ReplyDelete
  24. Who knows where to download XRumer 5.0 Palladium?
    Help, please. All recommend this program to effectively advertise on the Internet, this is the best program!

    ReplyDelete