Tuesday, November 10, 2009

लाल स्कार्फ



















इस
साल नवम्बर में सरदी
जब पहाड़ को पार कर
घर के आँगन तक पहुँचेगी
चाय के लिए तुलसी के पत्ते लेने
मैं बाहर आया करुँगी
तब आना तुम खिड़की पे
देखूं, कैसा दिखता है
लाल स्कार्फ तुम्हारे गले में.

मैंने जब उसे बुना था,
मां दहकते लाल उपलों पर
सेक रही थी
मकई की मोटी रोटियां,
आंच से आती रोशनी में
वह मुझे खुश
दिखाई दिया करती थी,
उसके माथे के नूर से मिल कर
भीतर और बाहर की आग
हो जाया करती थी एकमेव.

तुम खिड़की पे आना...
नए मौसम की सरदी बन कर,
कि
तुम जब लाल स्कार्फ नहीं पहनते
लगता है माँ भी मेरे पास नहीं होती।

12 comments:

  1. "लाल स्कार्फ" के माध्यम से
    शरद-ऋतु का सुन्दर चित्रण!
    बधाई!

    ReplyDelete
  2. मौसम और भावनाओं दोनों का सुन्दर वर्णन.

    ReplyDelete
  3. उसके माथे के नूर से मिल कर
    भीतर और बाहर की आग
    हो जाया करती थी एकमेव.


    सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  4. तुम खिड़की पे आना...
    नए मौसम की सरदी बन कर,agar kahun behad khoobsurat kavita to aap samjhe ki mere pas tareef ke liye proper words nahi hai ya kam hai.....kyee baar padti hun apki kavitaye fir fir aake....

    ReplyDelete
  5. तुम खिड़की पे आना...
    नए मौसम की सरदी बन कर,
    कि
    तुम जब लाल स्कार्फ नहीं पहनते
    लगता है माँ भी मेरे पास नहीं होती...

    AAPKI KAVITA BAHOOT HI MAASOOM ... DIL MEIN BHEEGA SA EHSAAS JAGAATI HAI .... PAHAADI MOUSAM KE SAATH YE KAVITA KISI DHOOP KI TARAH FAILI HUYEE MAHSOOS HO RAHI HAI .... ADHBUDH RACHNA ....

    ReplyDelete
  6. समय शायद इसी उधेड़ बुन में बीत जाता है.
    अच्छी कविता. एक लम्बे इंतजार के बाद देखने को मिली है अगर सर्दी नहीं आती तो ?

    ReplyDelete
  7. again one of the best expression....
    i can say todays best....

    ReplyDelete
  8. गजब की ओरिजिनलिटी..
    चंद पंक्तियाँ मआनी की जंजीरों को कितनी आसानी से बेबस कर देती हैं..जैसे कि यह

    नए मौसम की सरदी बन कर,
    कि
    तुम जब लाल स्कार्फ नहीं पहनते
    लगता है माँ भी मेरे पास नहीं होती।

    ReplyDelete
  9. लाल स्कार्फ!एक अरसे बाद इस सुंदर शब्द को हिंदी कविता में देखा है.सहज लगती,सुंदर कविता.सीधी मन तक पहुंचती.

    ReplyDelete
  10. बहुत कम कवितायेँ ऐसी होती है जो इतना गहरा असर मन पर छोडती है...निजी तौर पर मुझे यह आपकी बेहतरीन रचना लगी..ये

    तुम खिड़की पे आना...
    नए मौसम की सरदी बन कर,
    कि
    तुम जब लाल स्कार्फ नहीं पहनते
    लगता है माँ भी मेरे पास नहीं होती...

    ReplyDelete
  11. acha ahsaas buna hai lal skarf ke sath

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete